महाराष्ट्र में पत्रकारों पर दर्ज मुकदमे ने पुनः आपातकाल की याद ताजी की-श्री शारदा

भोपाल.Desk/ @www.rubarunews.com>>   भोपाल जानकारी के अनुसार  महाराष्ट्र सरकार के आदेश पर परमवीर सिंह ने रिपब्लिक भारत के कई  संवाददाताओं पर एफआईआर दर्ज की है ।
एमपी वर्किंग जर्नलिस्टयूनियन के प्रान्ताध्यक्ष राधावल्लभ शारदा ने कहा कि  जिन पत्रकार साथियों ने इमरजेंसी काल में पत्रकारिता की तो उन्हें अच्छे से याद होगा कि इतनी बड़ी संख्या में एक प्रदेश में पत्रकारों पर मुकदमा दर्ज नहीं हुआ होगा । लगता है मिडिया संस्थान राजनीति के मोहरे बन गए हैं रिपब्लिक भारत के कई पत्रकारों पर पुलिस अधिकारी परमवीर सिंह या हिटलर साही, ने आपराधिक मामले दर्ज किए हैं , यदि यह कार्य किया है तो संविधान विरोधी है ।
श्री शारदा ने कहा  कि कथित रूप से  जाहिर चौथे स्तंभ पर कुठाराघात है । कथित इसलिए  कि तीन स्तंभ का जिक्र संविधान में है परन्तु तीनों स्तंभ और जनता के बीच सेतु का कार्य करने वाले को आजादी के बाद से अब तक कोई स्थान नहीं दिया सिर्फ चौथा स्तंभ कहा है ।
श्री शारदा ने कहा कि अब बात इमरजेंसी की तो उस समय केन्द्र सहित अलग-अलग प्रदेशों में कांग्रेस की सरकार थी , केन्द्र सरकार ने इमरजेंसी लागू कर दी और सभी प्रदेशों ने माना , आज महाराष्ट्र में कांग्रेस ,एन सी पी  के साथ ठाकरे शिवसेना प्रमुख हैं और तीनों मिलकर सरकार चला रहे हैं । उद्धव ठाकरे की मजबूरी है कि उसे मुख्यमंत्री पद मिला अतः जैसा कांग्रेस एवं एन सी पी चाहेंगी बैसा ही करना होगा ।
एम पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन इस घटना की घोर निन्दा करती है ।
प्रान्ताध्यक्ष श्री शारदा ने कहा कि  पदाधिकारियों से चर्चा के बाद कल एक ज्ञापन महामहिम राष्ट्रपति महोदय के नाम एक ज्ञापन महामहिम राज्यपाल को सौंपा जाएगा और पूरे घटनाक्रम की उच्च स्तरीय जांच करने की मांग करेगा ।
श्री शारदा ने  पत्रकार साथियों से निवेदन करते हुए कहा कि   हम पत्रकार ही रहें किसी भी राजनीतिक दल के नहीं बनें । यदि हम किसी दल के हो गए तो हम निष्पक्ष समाचार पोस्ट नहीं कर पायेंगे ।
आज रिपब्लिक भारत के साथ हो रहा है कल आपका नाम हो सकता है
श्री शारदा ने कहा कि आज सारे चैनल चुप है यह अच्छी बात नहीं है । सारे मिडिया संस्थानों से मेरा अनुरोध है कि सेतु के साथ खड़े हों और महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद करना चाहिए ।