पींग बढाने में जुटे पार्षदी के ख्वाहिशमंद -आकाओं से मतदाताओं तंक बना रहे हैं पैठ

श्योपुर[email protected]निक़ाय चुनावों की दस्तक ने राजनैतिक कार्यकर्ताओं के पैरों में ख्वाहिशों के घुंघरू बाँध दिए हैं। ख्वाहिशों का सीधा-सीधा वास्ता पार्षद पद के टिकटों से है। जिसके लिए तमाम ख्वाहिशमंद न केवल सियासी आकाओं की चौखट चूम रहे हैं। बल्कि अपने क्षेत्र के उन मतदाताओं तंक भी पींग बढ़ा रहे हैं जो सियासत में दखल रखते हैं। पार्षद बनने के इच्छुकों में बड़ी तादाद उनकी है जो सियासी मैदान में कभी पसीना बहाते नहीं दिखे। आरक्षण की स्थिति के अनुसार अपने चहेतों को मौका दिलाने की कोशिश भी युद्धस्तर पर जारी है। महिला सीटों के मामले में तमाम कार्यकर्ता अपनी पत्नियों के नाम को आगे बढ़ाने में जुटे हुए हैं। टिकटों के लिए पार्टी के नेताओं को ढोकने वाले अपनी सेवाओं और निष्ठाओं की दुहाई भी दे रहे हैं। यह कवायद श्योपुर से बड़ौदा, विजयपुर तंक अमूमन एक सी बनी हुई है। सत्तारूढ़ भाजपा के टिकट के ख़्वाहिष्मन्दों की संख्या बहुत अधिक है। वहीं कांग्रेस और बसपा ने भी अच्छे उम्मीदवारों की तलाश शुरू कर दी है। माना जा रहा है कि पार्षदी के दावेदारों के पैनल बनाने की प्रक्रिया जल्द ही गति पकड़ जाएगी।