जन सामान्य की समस्याओं के निराकरण में सीएम हैल्प लाईन एक प्रभावी टूल है – कलेक्टर

दतिया @rubarunews.com>>>>>>>>  कलेक्टर संजय कुमार ने सीएम हैल्प लाईन के प्रकरणों की विभागवार समीक्षा करते हुए कहा कि जन सामान्य की समस्याओं के निराकरण में सीएम हैल्प लाईन गुड गर्वनेंस के रूप में मध्यप्रदेश शासन का एक प्रभावी टूल है। सभी अधिकारी इसकी गंभीरता को समझते हुए प्राप्त होने वाले आवेदनों को अपने स्तर पर निराकरण करने की कार्यवाही समय सीमा में करें।

 

कलेक्टर संजय कुमार ने सोमवार को उक्ताश्य के निर्देश कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में समय सीमा के पत्रों की आयोजित समीक्षा बैठक में सीएम हैल्प लाईन में प्राप्त आवेदनों की प्रगति की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को दिए। बैठक में अपर कलेक्टर एसएस रावत, जिला पंचायत सीईओ अतेन्द्र सिंह गुर्जर सहित सभी जिला अधिकारी आदि उपस्थित थे। कलेक्टर संजय कुमार ने बैठक में विभागवार सीएम हैल्प लाईन में प्राप्त आवेदनों की समीक्षा करते हुए प्रत्येक विभाग के अधिकारी द्वारा निराकरण हेतु अपनाई जाने वाली रणनीति पर चर्चा करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिए कि सीएम हैल्प लाईन राज्य सरकार का जन सामान्य की समस्याओं के निराकरण का एक महत्वपूर्ण टूल है। अधिकारी इस कार्यक्रम को पूरी गंभीरता के साथ लें।

 

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि विभागीय दायित्वों एवं लक्ष्यों को समय सीमा के अंदर बेहतर तरीके से प्राप्त करने के साथ सीएम हैल्प लाईन में प्राप्त होने वाले आवेदनों को सबसे पहले पूरी गंभीरता एवं संवेदनशीलता के साथ अध्ययन करें। अध्ययन उपरांत संभवता एल-1 स्तर पर निराकरण की कार्यवाही करें तथा संबंधित आवेदक से सीधा संपर्क कर पूरी शालीनता से उसकी समस्या के संबंध में चर्चा कर निराकरण की कार्यवाही कर उसे अवगत भी कराए। निराकरण होने पर उससे संतुष्टी पूर्ण जबाव भी लें। निराकरण न होने की स्थिति में उसके कारणों से भी आवेदक को अवगत कराया जाए। कलेक्टर श्री कुमार ने सभी जिला अधिकारियों को निर्देश दिए कि आज की बैठक में दिए गए निर्देशों से अपने अधीनस्थ अमले को अवगत कराया जाए। उन्होंने कहा कि शासकीय अमले को जनता के प्रति जबावदेही बनाने हेतु हमें शासकीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों में एक कार्य संस्कृति विकसित करना है। विभिन्न समस्याओं से संबंधित प्राप्त होने वाले आवेदनों के निराकरण की कार्यवाही रणनीति के तहत् समय-सीमा के अंदर आवेदक से चर्चा कर की जाए।

 

सीएम हैल्प लाईन के प्रकरणों में रूचि न लेने वाले अधिकारियों पर होगी कार्यवाही। कलेक्टर श्री कुमार ने कहा कि सीएम हैल्प लाईन एवं समय सीमा के पत्रों के संतुष्टी एवं गुणवत्तापूर्ण निराकरण करने वाले अधिकारी एवं कर्मचारियों को जहां सम्मानित किया जायेगा वहीं आवेदनों के निराकरण में रूचि न लेने एवं तत्परता से कार्य न करने वालों के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।

 

कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि सीएम हैलप लाईन के प्रकरणों में जबाव प्रस्तुत करते वक्त आवेदक से की गई चर्चा तथा कारण का भी स्वष्ट उल्लेख करें। उन्होंने कृषि, राजस्व, खाद्य आपूर्ति, सहकारिता, स्वास्थ्य, पशुपालन, नगरीय निकाय आदि विभागों में सर्वाधिक सीएम हैल्प लाईन के प्रकारण होने पर संबंधित अधिकारियों को रणनीति के अनुरूप एक सप्ताह के अंदर निराकरण की कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सीएम हैल्प लाईन के निराकृत किए प्रकरणों की 5 दिसम्बर को पुनः समीक्षा की जायेगी।