कार्मिकों ने कहा पुरानी पेंशन योजना का ही मिले लाभ

नैनवां (बून्दी)KrishnaKantRathore/ @www.rubarunews.com – न्यू पेंशन स्कीम अधिसूचना के आदेश जारी होने की 17 वी पुण्यतिथि पर एनपीएसईएफआर के प्रदेश संयुक्त सचिव सुगनचंद मीणा, प्रदेश मीडिया सचिव पंकज जैन व प्रदेश अनुशासन एवं सतर्कता प्रभारी धर्मेंद्र दीक्षित के नेतृत्व में नैनवा ब्लॉक के 1000 से ज्यादा सरकारी कर्मचारियों ने 22 दिसंबर 2020 को अपने अपने कार्यालयों व विद्यालय में काली पट्टी बांधकर विरोध दर्ज कराया।

न्यू पेंशन स्कीम एम्प्लॉयज फेडरेशन ऑफ राजस्थान की ओर से चलाए जा रहे आंदोलन की कड़ी में मंगलवार को 1000 के लक्ष्य से भी ज्यादा कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर विरोध दर्ज कराया है।17 वर्ष पूर्व तत्कालीन केंद्र सरकार ने 22 दिसंबर 2003 को एक अधिसूचना जारी की थी जिससे पुरानी पेंशन बंद होकर न्यू पेंशन स्कीम लागू हुई। इस स्कीम में कर्मचारियों के मूल वेतन का 10 प्रतिशत निवेश शेयर मार्केट के जोखिम में होने के साथ ही जीपीएफ,पुरानी पेंशन व्यवस्था, चिकित्सा व्यवस्था,पेंशन पर महंगाई भत्ता,वेतन आयोग लाभ के अलावा उम्र बढ़ने के साथ अतिरिक्त पेंशन का कोई प्रबन्ध नहीं है जिससे कर्मचारियों को बुढ़ापे की चिंता के साथ ही नौकरी करते समय भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। विरोध दिवस पर विरोध दर्ज कराने वालों में प्रदेश संयुक्त सचिव सुगन चंद मीणा,प्रदेश मीडिया सचिव पंकज जैन,प्रदेश अनुशासन एवं सतर्कता प्रभारी धर्मेंद्र दीक्षित,महेश नारायण शर्मा,राधेश्याम मीणा,बाबूलाल शर्मा,ज्ञानचंद जैन, बंसी लाल मीणा,राजाराम मीणा मुकुल जिंदल,रामकेश,भेरूलाल,
दुर्गाशंकर,कमालुद्दीन,मुकेश,
देवलाल,फोरुलाल,सुरेन्द्र,रामकेश,विभा गौतम,फर्नाज सिद्दीकी,रुचिका वर्मा,प्रिया जैन आदि शामिल रहे।