ईश्वर का वरदान है बेटियां, इन्हें सशक्त बनाने के लिए समान अवसरों की आवश्यकता – शालिनी

बून्दी.KrishnaKantRathore/ @www.rubarunews.com – अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर आज उमंग संस्थान द्वारा “मेरी आवाज, हमारा समान भविष्य” विषय पर ऑनलाइन चर्चा आयोजित की गई।

मुख्य वक्ता के रुप में अपने विचार व्यक्त करते हुए संस्कृति संस्था की अध्यक्ष श्रीमती शालिनी विजय ने बालिका जन्म को ईश्वरीय वरदान बताया। शालिनी विजय ने कहा कि बालिकाओं को जिस सम्मान और पहचान की जरुरत है, वह सम्मान और पहचान मन से देनी होगी। शिक्षा से बालिकाओं को अपने पैरों पर खडे होने का जो सामर्थ्य मिला है, उसे मजबूत और सशक्त बनाने के लिए समान अवसरों की आवश्यकता हैं। विजय ने कहा कि केवल नवरात्रि मे कन्या पूजन से उन्हें सशक्त नहीं कर सकते, सशक्त करने के लिए शस्त्र और शास्त्र से सम्पन्न समान अवसर देने होंगे।
उमंग की अध्यक्ष सविता लौरी ने वैश्विकरण के दौर में बालिका व महिला सशक्तिकरण के समक्ष खडी समस्याओं के बारे में बताते हुए कहा कि इन्हें स्वयं अपनी हीन भावनाओं को दूर कर मानसिक विचारों मे परिवर्तन लाना होगा। इन्हें दृढ़ता, गरिमा और आत्मविश्वास की आवश्यकता है।
इस अवसर पर अनुराधा जैन, राशि माहेश्वरी, गणेश कंवर ने भी अपने विचार व्यक्त किए।