अपना घर” जैसी संस्था और अन्य संस्थाओं को देखते है तो लगता है कि ”मानवता अभी है और रहेगी”

दतिया.RamjisharanRai/@www.rubarunews.com – रास-जेबी पब्लिक स्कूल झांसी रोड़ दतिया में 2 फरवरी 2020 रविवार को ”अपना घर” भरतपुर के लिए ”एक मुट्ठी दान” कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में अतिथि के रूप में अपना घर भरतपुर के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री वीरपाल सिंह, अध्यक्ष अपना घर डबरा श्री कैलाश सरावगी एवं अपना घर डबरा टीम के सदस्य, चैयरमेन रास-जेबी ग्रुप श्री ओ.पी. श्रीवास्तव, श्री के.बी.एल पाण्ड़े, सुश्री बी.एस. गिल, श्री एम.एल. सोनी सहित अन्य अतिथि उपस्थित रहे। कार्यक्रम के प्रारंभ में उपस्थित अतिथियों द्वारा माॅ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलन किया और सरस्वती वंदना का गायन किया गया। तत्पश्चात् अतिथियों का तिलक एवं बैच लगाकर रास-जेबी ग्रुप के डायरेक्टर श्री संतोष गुप्ता, श्री राजेश मोर, श्री सुदीप गुप्ता, श्री गोविन्द गुप्ता, श्री बृजेन्द्र सिंह कौरव, श्री अमित शर्मा एवं प्राचार्य श्री नवीन शर्मा द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया। कार्यक्रम का संचालन श्री नीरज जैने द्वारा किया गया।
कार्यक्रम में रास-जेबी ग्रुप के चैयरमेन डाॅ. ओ.पी. श्रीवस्तव द्वारा अपने विचार रखते हुए कहा कि अपना घर संस्था जो कार्य कर ही है वह कार्य करना बड़े ही गर्व की बात है। उनहोंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति अगर मुट्ठी दान करेगा तो इस संस्था में रहने वाले प्रभुजनांे के लिए दैनिक उपयोग का सामान एकत्रित होंगा। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के कार्य करने के लिए मैं संस्था के संस्थापक तथा सभी सहयोगियों का साधुवाद करता हॅू। रास-जेबी ग्रुप डायरेक्टर श्री अमित शर्मा द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित अपना घर के अतिथियों तथा अन्य अतिथियों का परिचय दिया और कार्यक्रम की रूपरेखा को विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि अपना घर भरतपुर के संस्थापक श्री बी.एम. भारद्धाज एवं श्रीमती भारद्धाज द्वारा कैसे इस संस्था की स्थापना की गई और यह संस्था कैसे कार्य रही है। उन्होंने बताया कि इस संस्था द्वारा जिन व्यक्तियों को रखा जाता है उन्हें प्रभुजन कहा जाता है और संस्था उनकी सेवा करने मंे हमेशा त्तपर रहती है। उन्होंने कहा कि अगर कोई तीर्थ जा रहा है तो अपना घर भरतपुर जाकर भी तीर्थ की अनुभूति कर सकता है यह भी एक तीर्थ है।
कार्यक्रम में ”अपना घर” भरतपुर के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री वीरपाल सिंह जी उपने उद्बोधन में कहा कि ”अपना घर” भरतपुर राजस्थान में डाॅ. बी.एम. भारद्धाज द्वारा भरतपुर में संचालित एक संस्था है जिसकी नीवं सन् 2000 में रखी गई थी जिसके माध्यम से 30 हजार से ज्यादा ऐसे लोगों का ध्यान रखा जाता है, जो अपना स्वयं का ध्यान नहीं रख सकते और सड़क किनारे पड़े रहते है। सामान्यता ये ऐसे मानसिक या शारीरिक विकलांग होते है जिनका स्वयं का कोई परिवार नहीं होता है। डाॅ. बी.एम. भारद्धाज जी के द्वारा किये जा रहे इस अकल्पनीय कार्य के लिए उनको इस वर्ष कौन बनेगा करोड़पति के ’कर्मवीर’ एपिसोड़ में भी आमंत्रित किया गया था और स्वयं अमिताभ बच्चन ने ना सिर्फ उनके कार्य की सराहना की बल्कि सहयोग भी किया। वर्तमान में इस संस्था की भरतपुर के अलावा 30 से अधिक शाखाएं पूरे भारत में वर्ष है जिसमें से मध्यप्रदेश में डबरा और शिवपुरी में शाखाएं संचालित है। वर्तमान मंेभोपाल में भी अपना घर की शाखा संचालित की है। उन्होंने कहा कि यह सभी काम प्रभू की इच्छा से होते है और हम लोग भी अपने सामान की पूर्ति के लिए ठाकुरजी को चिट्ठी लिखते है। उन्होंने कहा कि आप भी कोई अच्छा काम करने की सोचे तो आपको धन और सहयोग की कमी नहीं रहेगी सब कार्य अपने आप अच्छे होते चले जायेंगे। उन्होंने कहा कि डबरा में संचालित अपना घर आश्रम में डबरा की टीम द्वारा बहुत मेहनत की गई और वहां पर स्वयं का 200 व्यक्तियों के ठहरने की व्यवस्था के लिए विल्डिग का निर्माण चल रहा है।
अपना घर डबरा के अध्यक्ष श्री कैलाश सरावगी ने कहा कि शिक्षाा के साथ संस्कार भी जरूरी है। उनहोने कहा कि विद्यालय के बच्चों द्वारा जो नाटक का मंचन किया गया वह बड़ा ही वेदना पूर्ण था और इससे हमें शिक्षा भी मिलती है कि किस प्रकार से कार्य करना चाहिए और दूसरों की पीड़ा समझनी चाहिए और मानव हित में कार्य करना चाहिए। उन्हांेने कहा कि आप सभी को अपना घर भरतपुर एवं अपना घर डबरा का भ्रमण जरूर करना चाहिए और वहां पर रहने वाले प्रभूजनों और उनके सेवकों के कार्य को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि आप सभी स्कूल के विद्यार्थियों के साथ अपना घर भरतरपुर एवं अपना घर डबरा का भ्रमण जरूर करें।
श्री एमएल सोनी ने उपस्थित सभी अतिथियों का अभिवादन करते हुए कहा कि सर्वप्रथम इस संच से हमारे गुरू डाॅ. ओपी श्रीवास्तव जो इस रास-जेबी ग्रुप के चैयरमेन है उनके माध्यम से यह कार्यक्रम देखेने का मिला है मैं उन्हें नमन करता हैूॅ। उन्होंने कहा कि दो वर्ष पूर्व मैंने डबरा आश्रम देखा और वहां की वास्तविक स्थिति को देखा और अपना घर भरतपुर का भी भ्रमण किया और वहां कार्य करने के तरीके देखे। उन्होंने कहा कि रास-जेबी संस्था के जो सांस्कृतिक कार्यक्रम अपना घर से संबंधित किए वह बहुत ही अच्चें है। उन्होंने कहा कि आपने जो दान की परंपरा बच्चों में डाल दी है वह बहुत ही अच्छी है। दान की परम्परा से बडा बदलवा आयेग न कोई अनाथ आश्रम रहेंगे न ही वृद्धाश्रम रहेंगे।
श्री के.बीएल. पाण्डे ने कहा कि यहां आकर मैं अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूॅ। उन्होंने कहा कि यहां आकर ऐसा लग रहा है जैसे एक मुरझाया हुआ पौधा फिर से खिल गया हो। उन्होंने कहा कि अपना घर के सदस्य जो कार्य कर रहे वह बहुत ही बड़ा और गौरवपूर्ण कार्य है। इससे हमंे कई प्रकार की शिक्षा भी मिलती है और आगे बड़कर कार्य करने की प्रेरणा भी मिलती है। ऐसे वक्त में जब अपना घर जैसी संस्था और अन्य संस्थाओं को देखते है तो लगता है कि मानवता अभी है और रहेगी। उन्होंने कहा कि बालाघाट में  व्यक्ति ने साईकिल से जा-जाकर दो लाख से अधिक पेड़ लगा दिए है और आदिवासियों को भी पड़ा रहे है। उनका नाम आलोक सागर उन्होंने बताया कि वह आईआईटी पास किए है और इंग्लैण्ड से एमएससी किए हुए है। उन्होंने इस कार्यक्रम के लिए रास-जेबी परिवार को बधाई दी।
इस दौरान रास-जेबी ग्रुप के विभिन्न विद्यालयों से आए बच्चों ने अपना घर से संबंधित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। रास-जेबी किड्स बुन्देला कालौनी के विद्यार्थियों ने बागबान साॅग, रास-जेबी छोटा बाजार के बच्चों द्वारा हे भगवान कहा है तू पर अपनी प्रस्तुति दी। तत्पश्चात् रास-जेबी झांसी रोड़ दतिया के विद्यार्थियों आओं एक काम करें ड्रामा और सीनियर विद्यार्थियों ने भी अपनी प्रस्तुती दी। कार्यक्रम में मूक वधिर आश्रम के बच्चों द्वारा नाटक की प्रस्तुति दी। इन सभी सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने वहां पर उपस्थित सभीजनों की आंखे नम कर दी।
कार्यक्रम में रास-जेबी झांसी रोड़ दतिया, रास-जेबी किड्स छोटा बाजार, बुन्देला कालौनी, बड़ौनी, दिनारा, सेवढ़ा, डबरा, पिछोर आदि संस्थाओं से प्राप्त खाद्य सामग्री जैसे दाल, चावल, आटा, मसाले, चाय पत्ती, शक्कर, पोहा, सूजी, रवा, बिस्कुट, टोस्ट, या दैनिक उपयोग सामान तौलिया, साबुन, बालों का तेल आदि जो स्कूली बच्चों द्वारा दिनांक 20 जनवरी से 2 फरवरी तक एक मुट्ठी दान कार्यक्रम में प्राप्त की गई थी वह सामग्री अपना घर के सदस्यों को वहां पर रहने वाले प्रभुजनों की सेवा के लिए प्रदान की गई। इसीक्रम में एक लाख 11 हजार रूपये की नगद राशि का चैक रास-जेबी ग्रुप के चैयरमेन श्री ओ.पी. श्रीवास्तव द्वारा अपना घर डबरा के भवन निर्माण के लिए दिया गया। इसीक्रम में रास-जेबी विद्यालय के स्टाॅफ द्वारा भी एकत्रित 11 हजार रूपये की राशि का चैक और लाॅर्ड गणेशा विद्यालय के प्रतिनिधि द्वारा चैक अपना घर के सदस्यों को दिया गया। कार्यक्रम में विद्यालय के छोटे बच्चों द्वारा अपनी बनाई गई गुल्लक को अपना घर के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री वीरपाल सिंह को प्रभूजनों की सेवा के लिए दी गई।
कार्यक्रम में मूक वधिर आश्रम के संचालक श्री सुख सिंह गौतम एवं दतिया शहर में कही भी रक्त जरूरत हो रक्तदान सेवा के लिए हमेशा तत्पर जो स्वयं 18वार रक्तदान करने वाले श्री सुनील कनकने का सम्मान किया गया। सर्वश्री संजीव मिश्रा, अनिल अग्रवाल, श्रीमती सुनीता गंधी, कमलेश शास्त्री, नवीन सेन, सुमित रावत, संदीप सुहाने, सुरेश श्रीवास्तव, आदि शक्ति मंडल, अजय शर्मा, अनुज अष्ठाना सहित गणमान्यजन, पत्रकारगण सहित भारी संख्या में जन सामान्य उपस्थित रहा। कार्यक्रम में सभी अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए। कार्यक्रम में सभी अतिथियों का आभार प्रदर्शन रास-जेबी विद्यालय के डायरेक्टर श्री राजेश मोर द्वारा किया गया और उन्होंने कहा कि परोपकार से बड़ा कोई काम नहीं है।

Umesh Saxena

I am the chief editor of rubarunews.com