उड़िया बस्ती में सपनों की उडान का रैंप वॉक…. उड़िया बस्ती की लड़कियों और महिलाओं ने दिया महिला सशक्तिकरण परिचय

कोटा.K.K.Rathore/ @www.rubarunews.com-  अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस एक ऐसा दिन है जिस दिन पुरे विश्व में महिलाओं के द्वारा समाज में दिए जा रहे उनके अतुलनीय योगदान के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया जाता है | इसी अवसर पर कोटा में सोसायटी हैस ईव इंटरनेशनल चैरीटेबल ट्रस्ट के द्वारा चलाये जा रहे महिला सम्मान व सशक्तिकरण सप्ताह के दौरान अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर ट्रांसपोर्ट नगर स्थित उड़िया बस्ती के जगन्नाथ मंदिर में ‘सपनों की उडान’ थीम पर कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें वहाँ की स्थानीय महिलाओं व बालिकाओं के द्वारा महिला सशक्तिकरण परिचय देते हुए महिलाओं के विभिन्न रूपों डांसर, सिंगर, टीचर, सुरक्षा कर्मी, खिलाड़ी, पत्रकार, राजनेता, डॉक्टर, इंजिनियर, वकील, ब्यूटिशियन, पेंटर, समाज सेविका व भारत माता का रैंप वॉक किया और उनके स्वास्थ्य व स्वच्छता को देखते हुए ‘माहवारी एक वरदान’ विषय पर संगोष्टी आयोजित की |
संस्था की अध्यक्ष डॉ. निधि प्रजापति ने वहाँ उपस्थित महिला शक्ति को संबोधित करते हुए बताया की महिलाएं देवी-देवताओं के तुल्य है उन्हें सम्मान, सुरक्षा व सहयोग देना समाज के हर वर्ग की जिम्मेदारी है | सपनों की उडान रैंप वॉक में उड़िया बस्ती की ही लड़कियों और महिलाओं को ही इसलिए चुना गया क्योंकि समय व परिस्थिति की कमी के चलते कही न कही इन महिलाओं और बच्चियों के सपने दब गए है और उन्हें बाहर निकालने की आवश्यकता है ताकि में भी स्वयं को समाज एक महत्वपूर्ण अंग समझ सके | कार्यक्रम संयोजक रीना खंडेलवाल व राज लक्ष्मी ने बताया की दौरान वहाँ उपस्थित सभी महिलाओं को उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए माहवारी, उससे जुडी महत्वपूर्ण जानकारी, उन दिनों में रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में भी बताया तथा उनसे अनुरोध किया गया की वे मासिक धर्म से सम्बंधित अन्धविश्वास और रूढ़ियों को न माने क्योंकि उनका कोई वैज्ञानिक कारण नहीं है |
नीतू मेहता भटनागर ने बताया इस दौरान कार्यक्रम के सफल आयोजन हेतु मनोज चंचलानी, हरमीत सिंह आनंद, ज्ञानेंद्र सिंह अमेरा, कविता शर्मा, जिला सहायक अधिकारी नाबार्ड के विजय निगम, ज्योति भदोरिया व मिस मेक ओवर की सोनिया सिंह जादौन को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया | साथ ही बस्ती की महिलाओं व किशोरियों को उनके द्वारा समाज में दी जा रही अदृश्य अतुलनीय सेवाओं जिनके बिना हजारों घरों का काम ही नहीं चल सकता के लिए साड़ी व सेनेटरी नैपकिन्स देकर और रैंप वॉक की रितिका, भावना, झरना, रीना, पायल, रेशमा, शीतल, दीपा, ममता, सरिता, गीता, सुनीता, गीतांजलि, कविता एवं स्वर्णलता को प्रशस्ति पत्र व पुरस्कार देते हुए उनका धन्यवाद ज्ञापित किया गया |