ज्योतिषियों का दावा :रूस, अमेरिका व पाक के लिए शुभ नहीं संकेत वही  प्रधानमंत्री व देश के लिए  रहेगा शुभ Astrologers claim: Not auspicious sign for Russia, America and Pakistan, it will be auspicious for the Prime Minister and the country

बूंदी.KrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com>> ‘छोटीकाशी’ बूंदी के सदर बाजार रोड स्थित श्री रघुनाथ ताताचार्य मंदिर में रविवार को बूंदीस्थ ज्योतिष एवं धर्मशास्त्र परिषद की वार्षिक बैठक व आमसभा पंडित श्रीकांत शर्मा चालक देवी वालो की अध्यक्षता में आयोजित की गई। गणेश वंदना, स्वस्तिवाचन व वैदिक मंत्रोचार के साथ बैठक में विश्व शांति व मानव कल्याण की कामना की गई । साथ ही  आगामी वर्ष  के लिए  व्रत, उपवास एवं त्योहारों की वार्षिक पत्रिका का अनुमोदन किया गया। बैठक में हाड़ौती क्षेत्र के वरिष्ठ विद्वानों ने भाग लिया। परिषद के वरिष्ठ सदस्य पंडित लक्ष्मीकांत शर्मा ने बताया कि 22 मार्च से प्रारंभ हो रहे, पिंगल नामक संवत्सर में जनमानस के लिए शुभ संकेत हैं। इस दौरान गुरु मार्गी होकर मीन व मेष में परिसंचरण करेगा। जनवरी माह में खेती पर मौसम के विपरीत प्रभाव की संभावना रहेगी वहीं समेकित रूप से आगामी वर्ष में कृषि उत्पादन में श्रेष्ठता व जिले के लिए राजनैतिक शून्यता के संकेत है। वर्ष 2023 में मनाए जाने वाले व्रत, त्योहारों की तिथि का निर्णय करते हुए तय किया गया कि आगामी वर्ष में  मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी को होगा जिसके पुण्यकाल अगले दिन 11 बजकर 57 मिनिट तक रहेगा। वहीं  6 मार्च को होलिका दहन भद्रा पुच्छ में होने के कारण रात्रि 12 बजकर 50 मिनिट बाद से 2 बजे तक (7 मार्च)  विशिष्ट समयावधि में ही होगा।  शहर में जुलाई के महिने में चामुंडा माता का मेला दस जुलाई को केदारनाथ मेले के साथ, 17 जुलाई को गणेशबाग का मेला हरियाली अमावस्या के साथ होगा इसी दिन मोरडी की छतरी का मेला भी होगा। इस वर्ष 18 जुलाई से 16 अगस्त तक श्रावण अधिक मास रहेगा। परिषद निर्णय अनुसार विश्व शांति हेतु पुरुषोत्तम यज्ञ विद्वानों के द्वारा करवाये जाने का प्रस्ताव पारित किया गया। इस वर्ष रक्षा बंधन उदयकालीन पूर्णिमा 31 अगस्त को मनाया जाएगा। परिषद के निर्णय अनुसार रंगनाथ जी की डोल यात्रा उत्सव दशमी विद्धा एकादशी को न होकर द्वादशी तिथि में 26 सितंबर को होगा उपवास भी उसी दिन रहेगा। इस वर्ष धनतेरस 10 नवंबर को, 12 नवम्बर को रूप चौदस व दीपावली पर्व एक ही दिन होगा, 13 नवम्बर को अन्नकूट गोवर्धन पूजन चन्द्रदर्शन रहित प्रतिपदा में मनाने का निर्णय एकमत से पारित किया गया। आगामी वर्ष में परिषद में पंडित श्रीकांत शर्मा अध्यक्ष व पुरुषोत्तम शर्मा मंत्री पद पर सर्वसम्मति से कार्यरत रहेंगे। गणेश पूजन वंदना व स्वस्तिवाचन के साथ शुरू हुई वार्षिक बैठक व आम सभा में अध्यक्षीय उद्बोधन में अध्यक्ष श्रीकांत शर्मा ने जीवन में अध्यात्म व ज्योतिष के महत्व पर प्रकाश डालते हुए आगामी वर्ष हेतु सभी को शुभकामनाएं प्रेषित की। बैठक का संचालन लक्ष्मीकांत शर्मा ने किया। मंत्री पुरुषोत्तम शर्मा ने आभार प्रकट किया। बैठक में वर्षपर्यंत दिवंगत हुए विद्वान महानुभव को मौन श्रद्धान्जलि दी गयी।

ज्योतिषियों का दावा :रूस, अमेरिका व पाक के लिए शुभ नहीं संकेत वही  प्रधानमंत्री व देश के लिए  रहेगा शुभ Astrologers claim: Not auspicious sign for Russia, America and Pakistan, it will be auspicious for the Prime Minister and the country

रूस,अमेरिका व पाक के लिए शुभ नहीं संकेत वही  प्रधानमंत्री व देश के लिए  रहेगा शुभ

परिषद विद्वानों की गणना के अनुसार आगामी संक्रांति फल रूस अमेरिका व पाक के पक्ष में शुभ संकेत प्रकट नहीं करता है वही भारत व भारत के प्रधानमंत्री के लिए संक्रांति फल शुभ संकेत कारी  है।

यह होंगे बून्दी में त्योहार व उत्सव

परिषद के मंत्री पंडित पुरुषोत्तम शर्मा व मीडिया प्रवक्ता आचार्य विनोद शास्त ने बताया कि सन् 2023 में 10 मई से मंगल कर्क राशि मे प्रवेश करेगा जो राजनीतिक अस्थिरता के साथ उत्पात कारक रहेगा, अकल्पनीय घटनाएं होना संभावित है। 6 मार्च की होली, 10 जुलाई को केदारनाथ महादेव, 17 जुलाई को मोरडी छतरी मेला, 21 अगस्त को अभयनाथ महादेव मेला, 28 अगस्त  को रेतवाली महादेव का मेला, 2 सितंबर को कजली तीज व 12 नवम्बर को दीपावली त्योहार की तिथि तय हुई।

इस अवसर पर अध्यक्ष पंडित श्रीकांत शर्मा चालक देवी वाले , पंडित नंदकुमार शास्त्री लक्ष्मीपुरा,सम्पूर्णानन्द शुक्ल, पंडित नवल शास्त्री ठिकरदा, आचार्य विनोद कुमार, रविदत्त शास्त्री, उमेशदत्त शास्त्री खटकड़, प्रमोद शास्त्री, गोपाल भन्डेडा,मनोज जोशी, सीताराम जोशी, लक्ष्मीकांत शर्मा, शिवकांत शर्मा, गौरी शंकर ठिकरदा, त्रिलोक चंद शर्मा, भागीरथ जोशी व डॉ सर्वेश तिवारी सहित 5 दर्जन से अधिक ज्योतिषाचार्य व विभिन्न विधाओं के ज्ञाता  विद्वतजन ने सहभागिता की ।