लंबे समय बाद चरस तस्कर लगे पुलिस के हाथ, एसपी ने मामले का किया खुलासा

 

-दिल्ली से चार तस्कर भिंड में सौदा करने आये थे बदमाश, गोरमी पुलिस हुई सक्रिय

-2 किलो चरस एवं 7 किलो गांजा पकड़ा साथ में एक बाइक बरामद

 

भिण्ड। पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र सिंह चौहान ने शनिवार दोपहर 3 बजे आयोजित एक प्रेसवार्ता में बताया कि एक तस्कर दिल्ली में रहकर चरस तस्करी करता था, वो इन दिनों भिंड चरस व गांजा बिक्री करने की फिराक में था, जिसकी डीलिंग झांसी के तस्करों से करने जा रहा था, यह सूचना मिलते ही साइवर टीम और गोरमी पुलिस सक्रिय हुई और अंतरराज्यीय तस्कर को गोरमी थाने के हीरापुरा हेड से पकड़ लिया। जिनके पास से 2 किलो चरस और 7 किलो गांजा सहित एक बाइक बरामद हुई। पकड़े गये आरोपियों से पुलिस ने सख्ती के साथ पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि कुछ गांजा उनके घर पर रखा हुआ है, जिसे पुलिस टीम की मदद से तलाशी लेने पर 7 किलो अवैध गांजा बरामद किया, इसके साथ 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया। चरस एवं गांजा तस्करी के आरोप में कुल 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर थाना गोरमी अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है। पकड़े गये आरोपियों पर पूर्व में भी अपराध पंजीबद्ध है तथा अवैध मादक पदार्थों की तस्करी में संलिप्त है। उक्त घटना का एक आरोपी शातिर तस्कर है जो गोरमी भिण्ड के अलावा दिल्ली गुरुग्राम में भी अवैध मादक पदार्थो की तस्करी करता है उक्त आरोपी को जब भिण्ड पुलिस द्वारा तलाशा जाता था तो शांतिर तस्कर दिल्ली में अपने ठिकाने पर छिप जाता था जो पुलिस के हाथ लग गये, पुलिस ने चारों को गिरफ्तार कर न्यायालय मेंं पेश करते हुए जेल भेज दिया। वर्ष 2014 में गांजा की अवैध तरकारी में जिला अनिकापल्ली विशाखापटनम में पकड़ा गया था जिस पर एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही की गयी थी। जिसके बाद भी वह नहीं सुधरा और लगाता अवैध गांजे की तस्करी करता चला आ रहा था जो फिर पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

अंतरराज्जीय स्तर पर करता था मादक पदार्थों की तस्करी

गोरमी कस्बे के बंगला मोहल्ला में रहने वाला सच्चिदानंद उर्फ सचिन पुत्र पुत्तू भदौरिया अंतरराज्जीय स्तर पर मादक पदार्थों की तस्करी करता आ रहा था। इसे पहले आरोपी वर्ष 2014 में आंध्रप्रदेश में गांजा तस्करी में पकडा गया था। इसके बाद आरोपी दिल्ली के नजबगढ में रहने लगा। बदमाश स्वयं को टाइल्स मार्केट का कारोबारी बताता और लग्जरी लाइफ जीता था। आरोपी सीधे तौर पर मादक पदार्थ जैसे गांजा, चरस की तस्करी करते आ रहा था। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी कुछ दिनों पहले आरोपी आंध्रप्रदेश गया था यहां से वो चरस लेकर आया। यह चरस की डीलिंग करने के लिए आरोपी दिल्ली से गोरमी आया और यहां वो झांसी की पार्टी को दो किलो चरस देने की डील की तैयार कर चुका था। पुलिस ने आरोपी को पकडा तो उसे चरस व उसके घर से गांजा मिला। पुलिस ने आरोपी के पिता और भाई समेत एक अन्य युवक को आरोपी बनाया।

कचनावं रोड पर एक करोड की लागत से बनवा रहा मकान

पुलिस ने जब आरोपी से पूछताछ की तो उसने स्वयं को टाइल्स कारोबार से जुडा होना बताया। आरोपी ने यह भी बताया कि उसे पंद्रह हजार रुपए वेतन मिलता है। परंतु आरोपीए लग्जरी लाइफ जीता है। दिल्ली में फ्लैट में रहताए लग्जरी गाडिय़ों में सफर करता है। उसका पैतृक मकान गोरमी में छोटा है। वो स्वयं के लिए कचनावं रोड पर एक करोड की लागत से मकान बनवा रहा हैए जिसके दो मंजिल तैयार हो गई।

बरामद मशरुका:

पकड़े गये तस्करों के पास से 02 किलो चरस (हशीश) कीमती बीस लाख रुपये, 07 किलो गाँजा कीमती-84 हजार रुपये, 01 प्लेटिना मोटर सायकिल, कीमती- 56 हजार रुपये कुल बरामद माल मशरुका कीमती-21 लाख 40 हजार रुपये बताया गया है।

सराहनीय भूमिका

दबिश देकर पकडऩे वालों में थाना प्रभारी गोरमी सुरेश शर्मा सायवर सेल प्रभारी उ.नि. शिवप्रताप सिंह राजावत, उ.नि. वैभव तोमर, स.उ.नि. सत्यवीर सिंह, प्रआर. 982 प्रमोद पराशर, प्रसारण 566 महेश कुमार प्रजार 315 सतेन्द्र यादव प्रआर. 1007 कोशलेन्द्र प्रसारण 1076 जितेन्द्र आर. 281 आनन्द दीक्षित, आर. 637 राहुल यादव, आर. 69 हरपाल आर. 851 विजय, आरचा. 1098 अमृत तोमर की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।