कन्या विवाह योजना के तहत भाई को बहिन की शादी के लिए नहीं मिल रहे रुपये, दर-दर की खा रहा ठोकर

भिण्ड.शशिकांत गोयल /@www.rubarunews.com>> मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत निशक्त और कमजोर परिवारों की कन्याओं के लिए यह योजना चलाई जा रही है इसके तहत उनकी बच्चियां जब 18 वर्ष की शादी योग्य होने पर ऐसे परिवारजनों को शासन की ओर से योजना के तहत 51 हजार रुपये की राशि शादी के लिए उपलब्ध करायी जाती है जो जमीनी स्तर से सब दिखावा नजर आ रही है। ऐसा ही मामला गोहद क्षेत्र के ग्राम बगथरा पोस्ट चितौरा, ग्राम पंचायत निवरोल, तहसील गोहद से सामने आया है।  जहां एक परिवार में उनके माता-पिता की विगत वर्ष मौत हो जाती है और परिवार खाने-पीने के लिए मोहताज है बावजूद भी ऐसा परिवार पात्रता की श्रेणी में नहीं आता है। इस परिवार में भाई ने बहिन की शादी करने के लिए पंचायत के सरपंच व सचिव को योजना का लाभ लेने के आवेदन किया तो सरपंच बोले 25 हजार रुपये ही मिलेगे, जबकि शासन के नियमानुसार शादी के लिए कन्याओं को 51 हजार रुपये उपलब्ध कराये जा रहे हैं, तो सिर्फ सरपंच व सचिव का इस तरह तर्क क्यों दिया जा रहा है इस माझले के पीछे उनकी क्या मंशा हैं कहीं कन्याओं की शादी के लिए मिलने वाली राशि को डकारने के फिराक में तो नहीं। यहां पर सबसे बड़ी बात यह है कि इस परिवार के माता-पिता विगत वर्ष पहले उनकी मौत हो चुकी है और परिवार आर्थिक तंगी से गुजर रहा है ऊपर से बहिन की शादी और बारात 26 फरवरी को आनी जिसके बाद भी उसे शासन की योजना तहत मिलने वाली राशि उनके हाथ नहीं लग पा रही है। यह सिर्फ एक मामला सामने आया है न जाने कितने लोग होंगे जो अपनी बिटियां की शादी करने के लिए शासन की इस योजना के लाभ से बंचित रहते होंगे। जब यह मामला मीडिया के संज्ञान में आया तो सरपंच से बात की गई से बात की गई, जिसके बाद गोहद सीईओ को भी अवगत कराया तो जिम्मेदार लोगों का तर्क यह था कि परिवार शासन की गाईड लाइन को पूरा नहीं करता है इसलिए इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। सवाल यह है कि जिसके सर पर रहने के लिए छत न हो और अधिकारी बोलते हैं कि नियम फोले करो। वहीं किसी दलाल के माध्यम से यह कन्या विवाह राशि निकाली जाये तो किसी भी नियम की जरुरत नहीं पढ़ती सिर्फ उनकी जेब गर्म करनी पड़ती है और रुपये उनके खाते में पहुंचा दिये जाते हैं। जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारी ही शासन की योजनाओं को पलीता लगाने में लगाने हुए हैं।

भाई बोला 26 फरवरी को आनी है ग्वालियर से बारात

मनीष पुत्र स्व. प्रीतमसिंह जाटव निवासी ग्राम बगथरा पोस्ट चितौरा, ग्राम पंचायत निवरोल तहसील गोहद ने बताया उसकी बहिन शिवानी उम्र 19 वर्ष की 26 फरवरी को शादी है और बारात ग्वालियर से आयेगी, उसने मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत ग्राम पंचायत में विगत माह आवेदन किया था बावजूद भी उसे रुपये नहीं मिले। जब इस संबंध में उसने सरपंच से बात की तो उन्होंने बताया कि आपको सिर्फ 25 हजार रुपये ही मिलेगे, तो उसने पूछा साहब शासन से तो 51 हजार रुपये मिलते हैं। विगत माह से उसे सरपंच के द्वारा घुमाया जा रहा है और कागजी कार्रवाई में उलझाकर रख दिया है जबकि सर पर उसकी बहिन की शादी है।

पिता की सर्प दंश से मौत, मां हार्टअटैक से गुजरबसी

शिवानी ने बताया कि उसके पिता स्व. प्रीतमसिंह की विगत वर्ष सर्प दंश से मौत हो चुकी है, जिसके बाद मां हार्टअटैक से चल बसी, जिसके बाद परिवार आर्थिक स्थिति से गुजर रहा था और भरण-पोषण के लिए शासन से मिलने वाले अनाज व अन्य सामग्री से गुजर बरस हो रही थी, जिसके बाद उसकी शादी होने आई तो भाई मनीष ने मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत पंचायत में आवेदन किया तो सिर्फ 25 हजार रुपये मिलने का आश्वासन दिया गया वह भी उनके हाथ नहीं लगे तो कलेक्टर को आवेदन देने पहुंचे।

इनका कहना है:

मुझे इस संबंध में जानकारी नहीं हैं ऐसे परिवार को योजना का लाभ मिलना चाहिए और उसके भाई को बुलाकर अधिकारियों से बात कर लाभ दिलाया जायेगा।

-रणवीर जाटव, विधायक गोहद

कर्मकार मण्डल द्वारा 90 दिन की मजदूरी दर्शना होता है बच्चे छोटे होने के कारण काम नहीं किया होगा, इसलिए परिवार के लोग इस श्रेणी में नहीं आते।

-धर्मेन्द्रसिंह सरपंच, ग्राम पंचायत निवरोल, गोहद

परिवार का श्रमिक कार्ड नहीं है इसलिए लाभ नहीं मिल पा रहा है ऐसी स्थिति में परिवार के लोग सम्मेलन में रजिस्ट्रेशन कराकर कन्या की शादी करा सकते हैं।

-नवलकिशोर पाठक, सीईओ जनपद गोहद

Umesh Saxena

I am the chief editor of rubarunews.com