आरक्षण पर टिकीं सबकी निगाहें – 09 दिसम्बर को होनी है प्रक्रिया

श्योपुर[email protected]प्रदेश में सभी नगरीय निक़ायों के अध्यक्ष व महापौर पदों के लिए आरक्षण की कवायद 09 दिसम्बर को पूरी होगी। इसके बाद चुनावी समर में कूदने के इच्छुक अपनी अपनी रणनीति तय करने में जुट जाएंगे। फिलहाल उक्त पदों की स्थिति को लेकर बेचैनी व कौतुहल का माहौल है। आम जनता में भी संभावित चेहरों और चुनावों को लेकर उत्सुकता बनी हुई है। गौरतलब है कि प्रदेश में निकाय चुनाव की नियत अवधि को बीते एक साल से अधिक का समय हो चुका है। ज्ञातव्य है कि पिछले निकाय चुनाव 2014 में हुए है तथा इसी साल 04 दिसम्बर को चुनावी नतीजे सामने आ गए थे। अब इस वाकये को हुए 5 के बजाय 6 साल बीत चुके हैं। परिषदों के बिना निकायों की कार्यप्रणाली भगवान भरोसे है। यही वजह है कि निकाय चुनाव सियासी हल्कों के साथ जनता के लिए भी बहुप्रतीक्षित बने हुए हैं। जहां तक श्योपुर ज़िले का सवाल है, अध्यक्ष पदों की स्थिति को लेकर सभी की उत्सुकता शबाब पर है। ज़िले में श्योपुर, विजयपुर और बड़ौदा को मिलाकर कुल 3 नगरीय निकाय हैं। इनमे श्योपुर नगरपालिका का अध्यक्ष पद पिछली बार अनारक्षित पुरुष के लिए था। वहीं नगर पंचायत विजयपुर और नगर परिषद बड़ौदा के अध्यक्ष पद अनारक्षित महिलाओं के खाते में गए थे। ऐसे में क़यास लगाया जा रहा है कि श्योपुर का अध्यक्ष पद इस बार अनारक्षित महिला या पिछड़ा वर्ग महिला के पक्ष में जा सकता है। वहीं बड़ौदा और विजयपुर निकाय में बाज़ी पुरुषों के हाथ लग सकती है। जो अनारक्षित या आरक्षित किसी भी वर्ग से सम्बंधित हो सकते हैं। बहरहाल सभी की निगाहें मंगलवार को सम्पन्न होने वाली प्रक्रिया पर टिकी हुई हैं। इसके बाद चुनावी कार्यक्रम को लेकर अधिसूचना जारी होने का इंतज़ार प्रबल होगा।