संविधान दिवस के अवसर पर सामूहिक प्रस्तावना वाचन ऑनलाइन आयोजन सम्पन्न

सम-विधान जो सबके लिए समान नियम प्रतिपादित करता हो- वीरेन्द्र शर्मा

दतिया। संविधान दिवस के उपलक्ष में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण दतिया, जिला बाल अधिकार मंच, मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान एवं स्वदेश संस्था के संयुक्त तत्वावधान में ऑनलाइन वेबीनार जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमती सुनीता यादव के निर्देशन में एवं अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश दिनेश खटीक सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्गदर्शन में आयोजित किया।

 

आयोजित ऑनलाइन सेमिनार के में संविधान दिवस पर ऑनलाइन प्रस्तावना वाचन का सामूहिक भाषण विद्वान न्यायाधीश श्री दिनेश खटीक द्वारा कराते हुए संविधान के उद्देश्यों को विस्तार से समझाया। इस अवसर पर प्राधिकरण के सुनील त्यागी द्वारा बताया गया कि भारतीय संविधान विश्व का लिखित व सबसे बड़ा संविधान है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे सतीश सिहारे वरिष्ठ पत्रकार द्वारा आव्हान किया कि हमें संविधान दिवस को गर्व दिवस के रूप में मनाने की आवश्यकता है। हमारा संविधान सर्वोपरि है। समय के अनुसार इसमें आवश्यक परिवर्तन करने की आवश्यकता है। युवा एड. कृपालसिंह बुंदेला द्वारा संविधान सभा, संविधान निर्माण में लगे समय के बारे में बताते हुए संघ और राज्य क्षेत्र व पहली अनुसूची आदि के बारे में व्यापक जानकारी दी गई। वरिष्ठ साहित्यकार वीरेंद्र शर्मा द्वारा बताया गया कि सम-विधान जो सबके लिए समान नियम प्रतिपादित करता हो, को परिभाषित किया।

 

इसके साथ ही राज्य समन्वय समिति सदस्य रामजीशरण राय द्वारा बताया गया कि हमें संविधान के प्रति सदैव सचेत और जागरूक रहना चाहिए व संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकारों का अक्षरशः पालन करना, हम सबकी जिम्मेदारी है। कार्यक्रम का संचालन कर रहीं श्रीमती पुष्पा गुगोरिया व श्रीमती प्रतिभा बुंदेला द्वारा आव्हान किया कि हमें अपने अधिकारों के प्रति सचेत रहते हुए कर्तव्यों का निर्वाह करने की महती आवश्यकता है ताकि अन्य किसी के अधिकारों का हनन न हो।

कार्यक्रम में पीएलव्ही सरदारसिंह गुर्जर, अशोक कुमार शाक्य द्वारा मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के अंतर्गत जिले में समुदाय आधारित निगरानी सर्वेक्षण में प्राप्त आंकड़ों को जिला स्तर पर सांझा करने के लिए दिसम्बर माह में जिला स्तरीय स्वास्थ संवाद के आयोजन की व्यापक जानकारी दी। जिसमें प्रशासनिक व विभागीय अधिकारियों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र से हितग्राही उपस्थित रहेंगे।

 

इसके साथ ही पीएलव्ही डीसीआरएफ़ सदस्य बलवीर पांचाल द्वारा जिला बाल अधिकार मंच के सदस्य बच्चों द्वारा राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर संचालित ऑनलाइन वेविनारों में दतिया के सदस्य बच्चों द्वारा की गई सराहनीय सहभागिता के बारे में बताया। उक्त बच्चों की सहभागिता की सराहना चाइल्ड राइट ऑब्जर्वेटरी (सीआरओ) भोपाल, यूनीसेफ भोपाल, नाइन इज माइन एवं प्रत्येक संस्था द्वारा की गई। वेबीनार में एड. कल्पनाराजे बैस द्वारा संविधान द्वारा प्रदत्त समानता का अधिकार को लागू कराने के लिए सामूहिक रूप से आवाज उठाने की बात कही।

 

वहीं बालमंच के सदस्यों शिवानी कुशवाहा, ब्रिजकुँअर पांचाल, आयुष राय, सरल तलरेजा, भरत नामदेव, साधना नामदेव, रोहित मांझी ने बाल अधिकारों के संरक्षण व बच्चों के मुद्दों पर सभी से आवाज उठाने की बात कही।

आयोजित वेबीनार में दीक्षा लिटौरिया व आकांक्षा लिटोरिया एवं खुशबू यादव ने संविधान पर आधारित गीत प्रस्तुत किया। आयोजित वेबीनार में अभियान साथी पत्रकार प्रशान्त गुप्ता, शीतल रायकवार, लवकुश शर्मा, बालमंच के उदय दांगी, रवि बघेल, अभय दांगी, पीयूष राय, भूपेंद्र कुशवाहा, अभिषेक जायसवाल, अंकित जायसवाल, ओंकार शर्मा, निदेश झा, ओम सरकार, अभिषेक शर्मा, साक्षी तलरेजा, जीतू सेंन, अरविंद दांगी, अखिलेश गुप्ता, पिस्ता राय, भानुमति शाक्य, अरमानसिंह यादव, मुदित शाक्य, कृतिका पटेल, रोहित मांझी, कनिका राय, मानव भारद्वाज, आयुष सविता, शैलेंद्र सविता, राहुल, शनि बाल्मीक, राशी चौरसिया, रमन चौरसिया, सूरज कुशवाहा, ध्रुव दांगी आदि ने उपस्थित रहकर अपने अपने विचार प्रस्तुत किए।

 

आगामी समीक्षा बैठक दिसम्बर माह के प्रथम रविवार को अपरान्ह 3 बजे आयोजित की जावेगी। वेविनार के अंत में सुबोध शर्मा पत्रकार व पीएलव्ही द्वारा सभी का आभार व्यक्त किया गया। उक्त जानकारी अभियान सदस्य वैशाली गुर्जर ने दी।