व्यसन मुक्ति के लिए वातावरण निर्माण बेहद आवश्यक है : कुलपति प्रोफेसर गोदारा

बून्दीKrishnakantRathore/ @www.rubarunews.com>> वर्धमान महावीर खुला विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए गए गावँ धनेश्वर में गुरुवार को कुलपति प्रोफेसर डॉ आर एल गोदारा की अध्यक्षता में नशामुक्ति जागृति शिविर, कोरोना के प्रति जागरूकता कार्यक्रम व ग्राम विकास के आयाम पर चर्चा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर समाज कार्य स्वर्णपदक प्राप्तकर्ता सामाजिक कार्यकर्ता सर्वेश तिवारी मुख्य वक्ता थे। शिविर में संभागियों को सम्बोन्धित करते हुए गोदारा ने कहा कि नशे की प्रवृति नैतिक, सामाजिक व आर्थिक विकास में सबसे बड़ी बाधा है। इस दुर्व्यसन से मुक्ति के लिए व्यापक जनचेतना के साथ वातावरण निर्माण व नैतिक सम्बलन की महती आवश्यकता है।इस हेतु उन्होंने मातृ शक्ति को आगे आने हेतु प्रेरित किया।




नोडल ऑफिसर असिस्टेंट प्रोफेसर रवि गुप्ता ने बताया कि नशामुक्ति जागृति शिविर में मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए स्काउट गाइड सहसचिव व उमंग संस्थान समन्वयक सर्वेश तिवारी ने ग्रामीण भाषा मे सम्बोन्धित करते हुए कहा कि नशे की लत बहुत खतरनाक है इसके दुष्प्रभावों से इसके आदी हो चुके व्यक्ति को परिचित करवाना व खतरों से जागरूक करना पहला जरुरी कदम है। उन्होंने शिविर में संभागी महिला पुरुषों को नशे के विविध दुष्प्रभावों से रूबरू करवाया व नशामुक्ति हेतु घरेलू उपायों की चर्चा की व धीरे धीरे इसे छोड़ने व छुड़वाने का संकल्प दिलाया। तिवारी ने सत्र में नशा मुक्ति हेतु महिला शक्ति को सकारात्मक वातावरण निर्माण, आध्यात्मिक क्रियाकलापों के साथ व्यसन के आदी होने की आदत परिवर्तन का व्यवहारिक प्रशिक्षण प्रदान किया। परिचर्चा सत्र में नशामुक्ति केंद्र, मेडिकल सुविधाओं, उपयोगी निदान की भी जानकारी प्रदान की। संस्था प्रधान अर्चना धाभाई ने इस अवसर पर गावँ में नशे की गम्भीर प्रवृति की जानकारी देंते हुए इस पर चिंता प्रकट की व संभागियों को प्रेरित किया कि वे नशामुक्ति अभियान में सहभागी बने। जिला परिषद सदस्य सीमा भील व सरपंच सत्यनारायण खटीक ने संभागियों को शिविर में दी उपयोगी जानकारी को अपनाने हेतु प्रोत्साहित किया व स्वयं इस चेतना हेतु दिशात्मक प्रयास की बात कही । तिवारी ने संभागियों को कोरोना महामारी के प्रति जागरूक करते हुए उससे बचाव हेतु मास्क व सेनेटाइजर या साबुन के उपयोग, दो गज की दूरी के साथ कोरोना टीकाकरण की जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन नोडल ऑफिसर असिस्टेंट प्रोफेसर रवि गुप्ता ने किया।




विश्वविद्यालय द्वारा माननीय राज्यपाल महोदय के निर्देशन में धनेश्वर गांव को विकास हेतु गोद लिया गया है इस क्रम में स्वयं कुलपति ने धनेश्वर पहुंचकर गावँ का दौरा किया व व्यवस्थाओं का जायजा लिया। ग्राम विकास के आयामों पर माध्यमिक विद्यालय में क्षेत्र के सक्रिय कार्यकर्ताओं, जनप्रतिनिधियों व शिक्षकों से विकास योजना पर की चर्चा आयोजित की गयी। कुलपति ने चर्चा में कहाँ कि सकारात्मक सोच व ग्रामीणों को नैतिक सम्बलन प्रदान करने के साथ ग्राम विकास की प्रभवी योजना बनाई जावेगी। उन्होंने शिक्षकों को ग्रामीण विकास में सहभागी बनते हुए एक एक परिवार गोद लेकर उसमें जागरूकता हेतु आव्हान किया। चर्चा का संचालन संस्थाप्रधान ने किया व नोडल ऑफिसर गुप्ता ने आभार प्रकट किया।