एनजीटी के नियमों को ताक पर रख, पॉवरमेक कंपनी बरसात में निकाल रही नदियों से रेत

भिण्ड। जिले में नदियों से रेत खनन के मामले में अवैध खनन का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। बरसात के दिनों में भी नदियों में पनडुब्बियां डालकर गहराही से रेत निकाला जा रहा है। यह खेल माइनिंग अफ्सर व पुलिस की सांठगांठ से चल रहा है इसलिए कार्रवाई करने की बजह पॉवरमेक कंपनी के अधिकारियों को खुली छूट दे रखी है। पॉवरमेक कंपनी दिन के समय रेत निकालती है और रात में उसका अवैध परिवहन शुरु कर दिया जाता है।
उल्लेखनीय है कि बरसात के दिनों में नदियों से रेत को लेकर पूर्ण प्रतिबंध लग जाता है बावजूद भी कंपनी के नुमाइंने नदियों को खोखला करने में लगे हुए है इससे जीव जंतुओं के ऊपर भी खतरा मडरा रहा है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के निर्देशों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है जिले में कई घाटों से कंपनी रेत अवैध खनन करने में जुटी हुई है। जिसकी जानकारी माइनिंग विभाग व पुलिस को भी है इसके बाद भी अफ्सरों की खामोशी कई सवाल खड़े कर रही है।
मुनाफा कमाने की होड़, बरसात में भी नहीं थम रहा अवैध खनन
चूंकि बारिश में रेत के दाम आसमान पर पहुंच जाते हैं, इसलिए पॉवरमेक कंपनी के नुमाइंदों ने रेत स्टॉक बरसात से पूर्व कर लिया था और आज भी जारी है अस्वीकृत घाटों से रेत निकालकर सार्वजनिक स्थानों पर डंप की जा रही है। माइनिंग विभाग के अधिकारी इस मसले पर चुप्पी साधे बैठे हैं। यह रेत बारिश मेंं मंहगे दामों पर बेची जा रही है।