कोरोना संकट में बच्चों को सुरक्षा दिलाने हेतु माननीय प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर मांग की

बाल अधिकार जागरूकता अभियान सतत संचालित किया जावे : सुबोध शर्मा

बालश्रम मुक्त प्रदेश अभियान के अंतर्गत :
दतिया @rubarunews.com अभियान के अंतर्गत संचालित गतिविधियों के तहत ग्राम सरसई में आंगनबाड़ी केन्द्र पर अभियान सहयोगी सुबोध शर्मा के समन्वय से बालसभा आयोजित की। बच्चों ने कोरोना संकट में बच्चों को सुरक्षा दिलाने हेतु माननीय प्रधानमंत्री भारत सरकार नई दिल्ली को चिट्ठी लिखकर मांग की।
सुबोध शर्मा ने अभियान की गतिविधियों को ग्रामीण क्षेत्र में सतत रूप से संचालित करने के आव्हान किया। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता जनता समाधिया ने समुदाय को बाल अधिकारों पर और प्रभावी जागरूकता पर जोर दिया। समाजसेवी रामकुमार समाधिया एवं रामरतन यादव ने बच्चों को प्रेरणादायक कहानी सुनाकर अपने जीवन के अनुभव व्यक्त किए। ग्राम सरसई, धमना,कामद, रिछार, तरगुवां, परासरी, गुजर्रा, आदि ग्रामों में जागरूकता रथ पहुँचा।
अभियान के अंतर्गत वैश्विक कोरोना संकट के बीच गरीब मध्यम वर्गीय समुदाय के बच्चों को बालश्रम एवं बाल व्यापार का शिकार ना होना पड़े इस हेतु बालश्रम विरोधी अभियान मध्यप्रदेश व सेव द चिल्ड्रन के सहयोग द्वारा बालश्रम मुक्त प्रदेश अभियान 10 जिलों में चलाया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत दतिया जिले में स्वदेश ग्रामोत्थान समिति द्वारा गतिविधियों का संचालन किया जा रहा है।
अभियान का उद्देश्य बाल सुरक्षा तंत्र एवम जन समुदाय को बच्चों के साथ होने वाले शोषण से बचाने के लिए जागरूक एवम सक्रिय करना है। अभियान के तहत बच्चों को रंग बिरंगे चित्र , कहानियां, कविताएं आदि तैयार करने हेतु ड्राइंग बुक, पेंसिल सेट वितरित किए जा रहे हैं ताकि वे तनावमुक्त  रह सकें। साथ ही लोगों को कोरोना से बचाव के लिए भी जागरूक किया जा रहा है। बालश्रम विरोधी अभियान के राज्य समन्वयक राजीव भार्गव ने बताया कि कोरोना संकट के इस कठिन समय में बच्चों के साथ बालश्रम और बाल-व्यापार जैसे शोषण के खतरे को देखते हुए  स्थानीय प्रशासन और समुदाय को अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है।
बालश्रम मुक्त प्रदेश अभियान प्रभारी, सदस्य जिला बाल संरक्षण समिति व बालमित्र रामजीशरण राय ने बच्चों को घर में रहकर अध्ययन करने व अन्य सकारात्मक गतिविधियों चित्रकला, स्टोरी टेलिंग, परस्पर संवाद आदि में संलग्न रहने की अपील की। अभियान दल के सरदार सिंह गुर्जर, बलवीर पाँचाल ने अपने अपने विचार व्यक्त किए।
बच्चे ने लिखी प्रधानमंत्री को चिट्ठी – जिसमें परम्परागत व्यवसाय के नाम पर जारी बालश्रम पर रोक लगाने, 18 वर्ष से कम उम्र के सभी बालश्रमिकों की गिनती कराए जाने और बच्चों को पूर्ण सुरक्षा दिए जाने की मांग को लेकर विभिन्न बाल समूहों से जुड़े बच्चों द्वारा प्रधानमंत्री के नाम चिट्ठी लिखी जा रही है ।
जागरूकता दल सुबोध शर्मा, आयुष राय, सरल तलरेजा, दीक्षा लिटौरिया, प्रीति वर्मा, पीयूष राय, अभय दाँगी, आकांक्षा लिटौरिया, शिवम बघेल अंकित कटारे आदि सम्मिलित रहे। उक्त जानकारी अशोक कुमार शाक्य ने दी।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

क्या बॉलीवुड सिर्फ फिल्म प्रमोशन के लिए जेएनयू के साथ है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close