राजस्थान से 107 प्रवासी मजदूर पहुंचे सामरसा बाॅर्डर

श्योपुर.Desk/ @www.rubarunews.com-
मुख्यमंत्री  शिवराज सिहं चैहान द्वारा दिये गये निर्देशो के क्रम में नोबल कोरोना वायरस कोविड-19 संक्रमण के दौरान राजस्थान में लाॅकडाउन के फसें 107 प्रवासी मजदूर आज श्योपुर जिले के बाॅर्डर सामरसा पहुंचे। जहां पर जिला प्रशासन द्वारा मेडीकल टीम से उनकी स्क्रीनिंग कराई। साथ ही ठहरने, पानी, भोजन की सुविधा के बाद बस के माध्यम से उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था की गई।
कलेक्टर  राकेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि राजस्थान में नोबल कोरोना वायरस कोविड-19 के लाॅकडाउन में फसें 107 प्रवासी मजदूर श्योपुर एवं अन्य जिलों के सामरसा बाॅर्डर पर पहुंचे। इन मजदूरो को जिला प्रशासन द्वारा सोशल डिस्टेसिंग की सुविधा के साथ सभी प्रकार की अन्य सुविधाएं मुहैया कराने के बाद सामरसा बाॅर्डर से उनके घर पहुंचाने के लिए बस रवाना कराई गई।
इसी प्रकार से राजस्थान से आने वाले प्रवासी मजदूरों की श्रृंखला में श्योपुर के 99, शिवपुरी के 08 कुल 107 मजदूर श्योपुर जिले के सामरसा बाॅर्डर से सभी प्रकार की सुविधाएं देने के बाद उनके घर भिजवाने की व्यवस्था सुनिश्चित की गई। इसी प्रकार से अभी तक श्योपुर के 3479 झाबुआ के 102, बालाघाट के 06, बैतूल के 03, कटनी के 71, मण्डला के 03, मुरैना के 74, भिण्ड के 942, सिवनी के 56, डिण्डौरी के 466, छिंदवाडा का 01, विदिशा के 14, पन्ना के 329, रीवा के 19, शहडोल के 44, शाजापुर के 11, शिवपुरी के 237, सीधी के 77 मजदूरों को सभी सुविधाएं प्रदान की जाकर बस के द्वारा उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था की गई है।
इसी प्रकार सतना के 51, उमरिया के 279, दमोह के 93, दतिया के 301, छतरपुर के 80, जबलपुर के 34, टीकमगढ के 65, आगर के 07, अनूपपुर के 08, ग्वालियर के 164, गुना के 225, अशोकनगर के 28, सागर के 65, सिंगरोली के 65, भोपाल के 25, देवास के 05, मदंसौर के 05, राजगढ के 04, इन्दौर के 09, उज्जैन के 09, पोरसा के 32, धार का 01, रायसेन, 09, बडवानी के 03 एवं छत्तीसगढ के 68, प्रवासी मजदूर राजस्थान से श्योपुर बाॅर्डर पर पहुंचे। इस प्रकार से कुल 7463 प्रवासी मजदूर श्योपुर जिले के बाॅर्डर सामरसा पर पहुंचने के बाद उनकी घर वापसी सुनिश्चित की गई।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

क्या बॉलीवुड सिर्फ फिल्म प्रमोशन के लिए जेएनयू के साथ है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close